रविवार, 12 जनवरी 2014

बुलबुल को क्या सुने कोई उड़ जाते हैं हवास....मीर तकी `मीर’



अब की हज़ार रंग गुलिस्तां में आए गुल
पर उस बगैर अपने तो जी को न भाए गुल

नाचार हो "चमन में रहिए" कहूं जब
बुलबुल कहे है "और कोई दिन बराए-गुल"

बुलबुल को क्या सुने कोई उड़ जाते हैं हवास
जब दर्दमंद कहते हैं दम भर "हाय गुल"

क्या समझें लुत्फ़ चेहरों के रंगो-बहार का
बुलबुल ने और कुछ नहीं देखा सिवाए गुल

या वरफ़ उन लबों का ज़बाने-कलम पे "मीर"
या मुंह में अंदलीब के थे बर्ग-हाए-गुल

-मीर तकी `मीर’
...................
बराए-गुलः फूल(प्रियतमा), वरफ़ः प्रशंसा
अंदलीबः बुलबुल, बर्ग-हाए-गुलः फूलों की पंखुड़ियां
....................
मूल नामः मुहम्मद तकी
जन्मः 1724
अवसानः 1810
 


2 टिप्‍पणियां:

  1. बुल खतरनाक होता है बुलबुल गजब की हो जाती है :) वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरे साहब की लाजवाब गज़ल ... शुक्रिया साझा करने के ...

    उत्तर देंहटाएं