रविवार, 20 मई 2018

दर्द...अति लघु कथा (अलक)....व्हाट्'अप


शाम से ही सीमा के सीने में बायीं तरफ़ हल्का दर्द था। पर इतने दर्द को तो औरतें चाय में ही घोलकर पी जाती हैं। सीमा ने भी यही सोचा कि शायद कोई झटका आया होगा और रात के खाने की तैयारी में लग गई।किचन निपटाकर सोने को आई तो विवेक को बताया। विवेक ने दर्द की दवा लेकर आराम करने को कहा।साथ ही ज़्यादा काम करने की बात बोलकर मीठी डाँट भी लगाई।
  
देर रात को अचानक सीमा का दर्द बढ़ गया था। सॉंस लेने में भी उसे तकलीफ़ सी होने लगी थी। “कहीं ये हार्ट अटैक तो नहीं ! ”ये विचार मन में आते ही वो पसीने से भर उठी।

       “हे भगवान! पालक-मेथी तो साफ़ ही नहीं किए,मटर भी छिलने बाक़ी थे।ऊपर से फ़्रीज़ में मलाई का भगोना भी पूरा भरा रखा हुआ है,आज मक्खन निकाल लेना चाहिए था। अगर मर गई तो लोग कहेंगे कि कितना गंदा फ़्रीज़ कर रखा था। कपड़े भी प्रेस को नहीं डाले।चावल भी ख़त्म हो रहे हैं, आज बाज़ार जाकर राशन भर लेना चाहिए था। 
मेरे जाने के बाद जो लोग बारह दिनों तक यहाँ रहेंगे, उनके पास तो मेरे मिस-मैनेजमेंट के कितने सारे क़िस्से होंगे।”

      अब सीमा सीने का दर्द भूलकर काल्पनिक अपमान के दर्द को महसूस करने लगी। “नहीं भगवान! प्लीज़ आज मत मारना। आज ना तो मैं प्रिपेयर हूँ और ना ही मेरा घर।” यही प्रार्थना करते-करते सीमा गहरी नींद में सो गई
-व्हाट्'अप

6 टिप्‍पणियां:

  1. कितनी अद्भुत होती है नारियाँ मरने के लिये डर नही पर जाते जाते अपनी सुघड़ता और लोक निंदा का भय...
    अजीब दास्ताँ,
    सुंदर कथा ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मौत तो जेसे कुछ भी नही ओरत के लिए..
    सुंदर लघुकथा कथा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (21-05-2017) को "गीदड़ और विडाल" (चर्चा अंक-2977) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    राधा तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर....
    लोग क्या कहेंगे !!!!
    वाह!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. हृदयस्पर्शी
    सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं